शहरयार… पुन्हा एकदा

जिंदगी जब भी तेरी बज्म में लाती हैं हमें… यह जमीं चांद से बेहतर नजर आती हैं हमें.. हर मुलाकात का अंजाम जुदाई क्यों है, अब तो हर वक्त यही बात सताती हैं हमे शहरयार… ते गेल्याची बातमी काल टीव्ही पाहताना समजली. बार्शीत असल्यावर टीव्हीवर बातम्या पाहता येतात. शहरयार म्हटलं की आठवतं… “गबन”मधली सीने में […]

Rate this: